ये कैसा सरूर है तेरे इश्क का मेरे मेहरबाँ,
सँवर कर भी रहते हैं बिखरे बिखरे से हम.

Ye Kaisa Sarur Hai Tere Ishq Ka Mere Meharba,
Savar Kar Bhi Rahate Hai Bikhare Bikhare Se Ham.