तुम याद बहुत आये हर शाम के बाद,
कभी आगाज़ से पहले तो कभी अंजाम के बाद,
इस डूबते सूरज की कसम,
इस दिल पे कोई नाम ना लिखा तुम्हारे नाम के बाद.

Tum Yaad Bahut Aaye Har Shaam Ke Baad,
Kabhi Aagaaz Se Pahle To KIabhi Anjaam Ke Baad,
Is Doobate Suraj Ki Kasam,
Is Dil Pe Koi Naam Na Likha Tumhare Naam Ke Baad.