जब खामोश निगाहों से बात होती है,
इसी से तो प्यार की शुरुआत होती है,
आपकी यादों में खोये रहते हैं हम दिन भर,
ना जाने कब दिन और कब रात होती है.

Jab Khamosh Nigaahoi Se Baat Hoti Hai,
Isi Se To Pyaar Ki Shuruaat Hoti Hai,
Aapki Yaado Me Khoye Rahte Hai Ham Din Bhar,
Na Jane Kab Din Aur Kab Raat Hoti Hai.