जब खामोश आँखों से बात होती है,
तो ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है,
तेरे ही ख्यालों में खोये रहते हैं,
न जाने कब दिन और कब रात होती है.

Jab Khamosh Aankho Se Baat Hoti Hai,
To Aise Hi Mohabbat Ki Shuruaat Hoti Hai,
Tere Hi Khyalo Me Khoye Rahte Hai,
Na Jane Kab Din Aur Kab Raat Hoti Hai.