अगर है यकीं तो कर लो क़ुबूल प्यार हमारा,
ये वो किताब है जिसे अल्फ़ाज़ों में बयां नहीं कर सकते हम.

Agar Hai Yakin To Kar Lo Qubool Pyaar Hamara,
Ye Vo Kitaab Hai Jise Alfaz Me Bayaan Nahi Kar Sakte Ham.