भोली सी अदा कोई फिर इश्क की जिद पर है,
फिर आग का दरिया है और डूब के जाना है.

Bholi Si Ada Koi Fir Ishq Ki Zidd Par Hai,
Fir Aag Ka Dariya Hai Aur Doob Ke Jana Hai.